Latest Posts

बिहार के शेखपुरा जिले में दीपावली की खुशी दोगुनी हो गई हैं। जम्मू-कश्मीर में बंधक शेखपुरा के 11 नाबालिगों को छुड़वा लिया गया है। ये सभी बच्चे आज अपने घर पहुंच जाएंगे हैं। दरअसल, इन बच्चों को एक ठेकेदार मजदूरी के लिए जम्मू-कश्मीर ले गया था। वह उनसे वहां पर बंधुआ मजदूरी करवा रहा था और उन्हें छोड़ने के लिए 1 लाख 20 हजार की मांग कर रहे थे।

पैसों की कर रहे थे डिमांड – श्रम अधीक्षक
इस मामले में श्रम अधीक्षक ने कहा कि 11 किशोर को नौकरी का झांसा देकर दलाल द्वारा दिल्ली के बहाने जम्मू कश्मीर भेज दिया गया था। घर भेजे जाने के नाम पर सभी को बंधक बना लिया और उनके परिवार से 1 लाख 20 हजार रुपए की डिमांड की जा रही थी। इसके बाद जिला प्रशासन शेखपुरा द्वारा जम्मू कश्मीर के स्थानीय जिला प्रशासन को घटना की जानकारी दी। इसके बाद जम्मू कश्मीर जिला प्रशासन ने तत्परता दिखाते हुए जम्मू कश्मीर के प्रशासन के सहयोग से सभी किशोरों को मुक्त करा लिया गया।

सभी किशोरों को झांसा देकर ले गए थे कश्मीर
वहीं घटना के बाद घाटकुसुम्भा श्रम प्रवर्तक द्वारा दलाल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराए जाने की बात कही है। गौरतलब है कि शेखपुरा जिले के कोरमा थाना क्षेत्र के पानापुर गांव के 11 किशोर को झारखंड पलामू जिले के एक ठेकेदार द्वारा नौकरी का झांसा देकर दिल्ली के बहाने कश्मीर ले जाकर दूसरे कंपनी में छोड़ दिया गया था। जिसके बाद उक्त कंपनी द्वारा सभी किशोरों को बंधक बना लिया था। इसके बाद इस खबर को सबसे पहले पंजाब केसरी न्यूज़ ने प्रमुखता से दिखया था, जिसका नतीजा हुआ कि सभी 11 किशोर को मुक्त करा लिया गया है। सभी को जम्मू कश्मीर से घर लाया जा रहा है।

बता दें कि सभी 11 किशोरों की पहचान  सदाशिव कुमार, राज कुमार, सोहित कुमार, प्रह्लाद कुमार, पारस कुमार,बीरबल कुमार,उजाला कुमार, सौरभ कुमार, श्याम कुमार,राहुल कुमार और संदीप कुमार के रूप में हुई हैं। सभी नाबालिग रविवार को अपने परिजनों से मिलेंगे।

Share.

Leave A Reply